Amruttam Reiki Yoga

SINCE 1999

+91 99090 00529

AMRUTTAM RESEARCH INSTITUTE OF REIKI & YOGA

Want To Know About Reiki?

SINCE 1999

Want To Know About Reiki?

\

+91 99090 00529

AMRUTTAM RESEARCH INSTITUTE FOR REIKI AND YOGA

Want To Know About Reiki?

SINCE 1999

Want To Know About Reiki?

SINCE 1999

Want To Know About Reiki?

SINCE 1999

Want To Know About Reiki?

SINCE 1999

+91 99090 00529

AMRUTTAM RESEARCH INSTITUTE FOR REIKI & YOGA

Want To Know About Reiki?

AmruttBatti

1,500

  • According to Yoga Shastra, Panch Mahabhuta Elements (five main elements) are there in every house, office, factory, and every person. Space, Air, Fire, Water, and Earth.

  • If these five elements are unbalanced and impure, then it could cause many kinds of trouble. Such as frequent illness in the house, no harmony among family members, frequent quarrels between family members without any reason, and no happiness and peace in the family.

  • Our Institute has known after long research(21 years) that according to Yoga Shastra, these five elements are purified by different natural fragrances, which is called Aroma Therapy.

  • Our Institute has prepared AmruttBatti on the basis of this type of fragrance and special practical of life force has been done on it. This way AmruttBatti is prepared, & by burning it at different places, the five elements of earth, water, fire, air, and space become completely healthy, active, awake, pure, and healthy.

  • Every type of impurities from the house is destroyed and the atmosphere of the house becomes pure. Happiness, peace, and prosperity increase. Your resolution is easily achieved. Every crisis or problem that comes upon you gets destroyed automatically.

  • Every type of mental stress is removed. The mind remains cheerful and joyful. Intelligence and tactfulness increase & spiritual progress happens in a quick, easy, and best way.

Categories: , Tag:

Description

Common Practical of AmruttBatti for everyday & everyone:

This practical of AmruttBatti has to be done twice, once in the morning and once in the evening.

AmruttBatti: 6 pieces

Yagyavedi: 6 pieces

Stand: 6 pieces

Process of Burning AmruttBatti:

1. On both sides of the main door of house                       1. Left        2. Right

2. On both sides of the gas stove in the kitchen                3. Left        4. Right

3. On both sides of the Devasthan (home temple)            5. Left        6. Right

According to the order mentioned above, first of all, place Yagyavedi and

After that burn all AmruttBatti together and put it according to the above-mentioned order.

21 Practical of AmruttBatti:

Note:

1. Every practical of AmruttBatti is only for your house, never show it to anyone, otherwise your consciousness may get confused, this is only for those people who purchased AmruttBatti.

2. Go Left to Right in every practical of AmruttBatti

3. These 21 practicals of AmrutBatti are to be done necessarily after sunrise and before sunset. (Before sunset, AmruttBatti should completely be burned to ashes). Besides this time, if practical is done by any mistake, then negative energy will start entering at a maximum speed, & which may take 10 minutes to 10 years to destroy.

4. All these practicals are to be done by placing Yagyavedi directly on the ground and by burning AmruttBatti.

5. First of all, the order which has shown, according to that order, first set the Yagyavedi is in their place, put a stand on it and together start burning all of the AmruttBatti, set it in the same place according to the order which is mentioned above. (There is no need to light an AmruttBattis one by one.)

6. For doing this practical, there is no obstruction of any type of Sutak. If someone has died in the house, or if a woman in a house is menstruating (periods) or a child has been born in the house, any such type of Sutak is not an obstacle in doing these 21 practicals of AmruttBatti.

7.The woman who has given birth, that means, the child has been born and the Sutak rules followed in their family, then according to that rule, and till that time, the woman who is menstruating (periods), cannot perform this practical until her menstrual discharge does not stop completely. During this time, these practicals’ can be done by any other woman, any man, or any child who is living in the house.

8. Any kind of aggravation does not arise in these practicals’, & you will not face any kind of problem, all these practicals’ are completely innocent.

9. People who are very old or very agricultural or very weak, who can walk only a little, such people cannot do these 21 practicals’ of AmruttBatti. Some other person in the house or the servant who is working in their house can do these practicals for them. (Don’t take the help of neighbors for these practicals’)

10. Pregnant women who are in their first 3 months of pregnancy cannot do these 21 practicals’ of AmruttBatti. Some other person in the house or the servant who is working in their house can do these practicals for them. (Don’t take the help of neighbors for these practicals’)

11. People who had engaged and are not married; until they are married, they cannot do these 21 practicals’ of AmruttBatti. Some other person in the house or the servant who is working in their house can do these practicals for them. (Don’t take the help of neighbors for these practicals’)

12. Children who are below the age of 10 years cannot do these practicals & don’t take help or make them do these 21 practicals’.

13. In any Religion or according to that religion, as in Hindu religion, sacrificial rites are performed, similarly, the method of Navjot comes in Parsi religion, likewise, different methods are followed, & if these methods are performed on anyone, they cannot do not these 21 practicals’ of AmruttBatti for 3 days to 3 months after the completion of their religious ritual.

14. Those who have done love marriage or love cum arrange, cannot do these 21 practical’s of AmruttBatti up to 2 months from the date of marriage.

15. A woman who has got an abortion due by any reason cannot do these 21 practicals’ of AmruttBatti in her whole life. Some other person in the house or the servant who is working in their house can do these practicals for them. (Don’t take the help of neighbors for these practicals’)

16. The detailed information and methodology of 21 practical’s of AmruttBatti will be given personally to them, whoever purchase it.

The main reason for all these very strict rules is that when the AmruttBatti is used, it restores pure energy at a rapid rate, & the intensity of quick purification happens at a very fast & quick rate. Due to which if the above-mentioned rules are not followed then there is an unnecessary activation of pure energy happens which may create the possibility of loss.

 

1. For the tiredness feeling in the body

2. For enthusiasm in Business

3. For the right success in court or dispute going on

4. To take divorce if you are married to an inappropriate life partner is against the law of nature.

5. To find the right life partner to remarry after divorce

6. For better tuning with the spouse

7. For minor and major diseases that are persistent: (such as sore throat, cough, body ache)

8. If the child has less intellectual ability, then for his/her growth

9. If there is no harmony between the parents, then the child can do this practical to reconcile

10. If there is no harmony between any couple in a house: the couple who has the harmony between them in their house or the servant who is working in their house can do these practicals for them. (Don’t take the help of neighbors for these practicals’)

11. If unnecessary natural obstacles are arising such as planetary effect, karmic effect for the marriage of the child, then to get the right remedy for it and he/she becomes able to do that remedy.

12. Wealth and food grains do not remain in the house, that is, the Dhanya Lakshmi is not stable, the food has become tasteless or there are insects in the grain (this is a very inauspicious sign, in a house where there is no Dhanya Lakshmi, there slowly all lakshimis gets destroyed. Then there should be a storage of one year’s of grain in the house, mainly wheat, rice, yellow lentils (toor dal) or whatever lentils /dal you are eating and oil).

13. For the solutions of unnecessary violent fights happening in the house.

14. To Destroy Black Magic

15. For very fast economic progress

16. To destroy the enemy (if any type of person is becoming a hindrance in any kind of your progress, then that person gets away from you, if the person is from your house & becoming a hindrance, then the enmity inside him gets destroyed).

17. For a person who becomes a hindrance in the marriage of a child

18. For the progress of children (for education and development). This practical is used for studies or professional fields.

19. For getting auspicious children

20. For a marriage of children as well as for their auspicious spouse: This practical can be done for children above the age of 10 years, because of that their marriage happens at a suitable time and with a suitable character and does not come in contact with any ineligible character.

21. For the economic progress of the child

While doing all these practical, if you have any intuition, then you can do it that way.

अमृत्तबत्ती:

  • योगशास्त्र के अनुसार हर एक घर, ऑफिस, फेक्टरी वि. और हर व्यक्ति मे पंच महाभूत तत्त्व आए है। आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी।

  • अब ये पंच तत्वा असंतुलित और अशुद्ध होने से कई प्रकार की परेशानिया आती है। जैसे की घर मे बार-बार बीमारी आना, परिवार के सदस्यों मे मनमेल न होना, बार-बार परिवार के सदस्यों मे बिना वजह झगड़ा होना और परिवार मे शुख शांति न रहना।

  • हमारी संस्था ने लंबे संशोधन (२१ साल) के बाद जाना है की यह योगशास्त्र के अनुसार ये पांचो के पांच तत्त्व अलग अलग कुदरती सुगंध से शुद्ध होते है जिसे ऐरोमा थेरापी कहा जाता है।

  • हमारी संस्था ने यह प्रकार की सुगंध के आधार के ऊपर धूपबत्ती तैयार की है और उस के ऊपर प्राणशक्ति का विशेष प्रयोग किया गया है जिसका नाम अमृत्तबत्ती हैं। इस तरीके से तैयार की गई अमृत्तबत्ती अलग अलग जगह पे जलाने से यह पांच के पांच तत्त्व पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश सम्पूर्ण रूप से स्वस्थ, सक्रिय, जाग्रत, शुद्ध और तंदुरुस्त होते है।

  • घर मे से हर एक प्रकार की अशुद्धियो का नाश होता है और घर का वातावरण पवित्र हो जाता है। सुख, शांति और समृद्धि मे बढ़ोतरी होती है। आपके संकल्प बहुत सरलता से सिद्ध होते है। आप के ऊपर आने वाले हर एक संकटो का अपने आप नाश हो जाता है।

  • हर एक प्रकार के मानसिक तनाव दूर होते है, मन प्रफुल्लित और आनंद मे रहता है, बुद्धि-चातुर्य बढ़ता है, शारीरिक, मानसिक, आर्थिक और आध्यात्मिक उन्नति गति से, सरलता से और श्रेष्ठम होती है।

 

अमृत्तबत्ती को हर रोज करने का सामान्य प्रयोग:

  • यह अमृत्तबत्ती का प्रयोग सुबह और शाम ऐसे दो बार करना है।

अमृत्तबत्ती : 6 नंग

यज्ञवेदी : 6 नंग

स्टेंड : 6 नंग

अमृत्तबत्ती जलाने की पद्धति :

1. घर के मुख्य द्वार की दोनों तरफ :                                            1. बाई ओर (Left)             2. दाई ओर (Right)

2. किचन में गेस के चूल्हे की दोनों तरफ :                                     3. बाई ओर                       4. दाई ओर

3. देवस्थान में मंदिर की दोनों तरफ :                                           5. बाई ओर                        6. दाई ओर

  • ऊपर बताए गए क्रम के मुताबिक, सबसे पहले यज्ञवेदी और स्टेंड जमा दीजिए।

  • उसके बाद एक साथ सब अमृत्तबत्ती जलाके ऊपर बताए क्रम के अनुसार लगा दीजिए।

 

अमृत्तबत्ती के 21 प्रयोग:

नोट:

1. अमृत्तबत्ती खरीदने वालोको यह सभी प्रयोग आपको अपने घर में ही करने है, दूसरों को दिखाने नहीं है, अन्यथा आपकी चेतना उलझ सकती है।

2. यह सभी प्रयोगो में बाए (Left) से दाए (Right) जाना है।

3. यह 21 प्रयोग अनिवार्य रूपसे सूर्योदय के बाद और सूर्यास्त से पहले ही करने है (सूर्यास्त से पहले अमृत्तबत्ती पूर्णरूप से जल कर पूरी हो जानी चाहिए) और इसके अलावा के समय में गलती से भी यह दिए गए कोई भी प्रयोग को करने में आया तो ज्यादा से ज्यादा गति से नकारात्मक ऊर्जा दाखिल होना शुरू हो जाएगी जिसका नाश करने में 10 मिनट से ले कर 10 साल लग सकते है।

4. यह सभी प्रयोग सीधा जमीन के ऊपर यज्ञवेदी रख कर अमृत्तबत्ती जला के करने है।

5. कितनी भी अमृत्तबत्ती जला कर जमानी हो तब सबसे पहले प्रयोग में जिस क्रम के मुताबिक बताया गया हो उस क्रम में पहले यज्ञवेदी को जमाए, उसके ऊपर स्टेंड रखे और अमृत्तबत्ती को ए क साथ जला कर उसी क्रम में जमाए। (एक एक अमृत्तबत्ती जलाने की झरूरत नहीं है।)

6. यह प्रयोग करने में किसी भी प्रकार के सूतक का बाध नहीं है। घर में यदि किसी का देहांत हुआ हो, या फिर घर में कोई स्त्री रजस्वला (पिरियड्स में) हो या फिर बच्चे का जन्म हुआ हो ऐसे कोई भी प्रकार के सूतक यह 21 प्रयोग में बाधा रूप नहीं है।

7. जिस स्त्री को प्रसव हुआ हो, यानि की बच्चा पैदा हुआ हो और उसके कूल में सूतक के जो नियम निभाते हो वह नियमानुसार उतने समय तक और जो स्त्री रजस्वला हो वह स्त्री को मासिक स्त्राव पूर्ण रूप से बंध न हो जाए तब तक उनसे यह प्रयोग नहीं हो सकते। यह दौरान घर के अन्य कोई भी स्त्री, कोई भी पुरुष या कोई भी बच्चा यह प्रयोग कर सकता है।

8. यह प्रयोगो में किसी भी प्रकार का aggravation आता नहीं है, या आपको कोई तकलीफ होती नहीं है, यह सभी प्रयोग पूर्ण रूप से निर्दोष है।

9. अत्यधिक वयोवृद्ध व्यक्ति या अत्यधिक कृष या फिर बहुत ही अशक्ति वाले व्यक्ति की, जो लोग थोड़ा थोड़ा ही चल सकते हो वैसी व्यक्तियों को यह 21 प्रयोग करने नहीं है। उनको यह प्रयोग घर के दूसरे कोई व्यक्ति के पास या फिर उनके घर में काम करते हुए नौकर के पास करवाने है। (पड़ोसी के पास न करवाए।)

10. सगर्भा स्त्री को गर्भावस्था के पहले 3 महीने में खुद से यह प्रयोग करने नहीं है। उनको यह प्रयोग घर की दूसरी कोई व्यक्ति के पास या फिर उनके घर में काम करते हुए नौकर के पास करवाने है। (पड़ोसी के पास न करवाए।)

11. जिनके एंगेजमेंट हुए हो और शादी न हुई हो उनको शादी हो तब तक यह 21 प्रयोग नहीं करने है। उनको यह प्रयोग घर की दूसरी कोई व्यक्ति के पास या फिर उनके घर में काम करते हुए नौकर के पास करवाने है। (पड़ोसी के पास न करवाए।)

12. 10 साल से कम आयु के बच्चों को यह प्रयोग नहीं करने है ना ही उनके पास करवाने है।

13. किसी भी धर्म में या उस धर्म के अनुसार, जैसे की हिन्दू धर्म में यज्ञोपवीत संस्कार करने में आते है, वैसे ही पारसी धर्म में नवजोत की विधि आती है, इस प्रकार की भिन्न भिन्न विधिया करने में आती हो और यह विधि जिनके ऊपर हो रही हो उन्हे उनकी धार्मिक विधि सम्पन्न होने के 3 दिन से 3 महीने तक यह 21 प्रयोग करने नहीं है।

14. जिन्होंने प्रेम विवाह किया हो या फिर लव कम अरेंज मेरेज हुए हो, उनको शादी की तारीख से 2 महीने तक यह 21 प्रयोग नहीं करने है।

15. जिस स्त्री ने किसी भी कारण वश गर्भपात करवाया हो उससे आजीवन यह 21 प्रयोग नहीं हो सकते। उनको यह प्रयोग घर की दूसरी कोई व्यक्ति के पास या फिर उनके घर में काम करते हुए नौकर के पास करवाने है। (पड़ोसी के पास न करवाए।)

16. नीचे दिए गए 21 प्रयोग की विस्तृत जानकारी और पद्धति अमृत्तबत्ती खरीदने वाले को व्यक्तिगत दी जाएगी।

यह सभी बहुत ही कठोर लगने वाले नियमों का मुख्य कारण यह है की अमृत्तबत्ती के यह प्रयोग करने से बहुत ही तीव्रता से, बहुत ही जल्दी से और त्वरित गति से शुद्धिकरण होता है और यह तीव्र गति से शुद्ध ऊर्जा का पुनःस्थापन करती है। जिसके कारण ऊपर बताए गए नियमों का यदि पालन नहीं किया जाता है तो यह शुद्ध ऊर्जा का बिनजरूरी रूप से संचरण (activation) होता है जिससे नुकसान होने की संभावना रहती है।

1. शरीर में थकान लगती हो उसके लिए

2. धंधा व्यापार में उत्साह के लिए

3. कोर्ट, कचहरी या विवाद चल रहे हो, उसमे सही सफलता के लिए

4. लो ऑफ नेचर यानि की कुदरत के नियम के विरुद्ध अयोग्य जीवनसाथी के साथ शादी हो गई हो तो तलाक लेने के लिए

5. तलाक हो जाने के बाद पुनः विवाह के लिए सही जीवनसाथी पाने के लिए

6. जीवनसाथी के साथ मनमेल के लिए

7. छोटी बड़ी बीमारिया लगातार रहती हो उसके लिए : (जैसे की गले की तकलीफ, खांसी, शरीर का दर्द)

8. संतान की कम बौद्धिक क्षमता हो तो उसकी वृद्धि के लिए

9. यदि माता-पिता में मन-मेल ना हो तो मन-मेल करने के लिए संतान को करने का प्रयोग

10. घर में कोई भी युगल में मन-मेल ना हो तो : जिस घर में जिस युगल में मन-मेल हो वे यह प्रयोग मन-मेल ना हो वैसे युगल के लिए कर सकते है या फिर घर के नौकर के पास भी यह प्रयोग करवाया जा सकता है। (पड़ोसी के पास यह प्रयोग न करवाए)

11. संतान की शादी के लिए बिन जरूरी कुदरती बाधाए उत्पन्न हो रही हो जैसे की ग्रहमान की असर, कार्मिक असर, तो उसके सही उपाय मिले और वह उपाय कर पाए उसके लिए

12. घर में धन धान्य न रहते हो यानि की धान्य लक्ष्मी स्थिर ना हो, भोजन बेस्वाद (फीका) हो गया हो या अनाज में कीड़े पड रहे हो (यह अत्यंत अशुभ निशानी है, जिस घर में धान्य लक्ष्मी ना हो वहाँ धीरे धीरे सब लक्ष्मीयां नष्ट हो जाती है। घर में एक वर्ष का अनाज होना चाहिए, मुख्यतः गेहू, चावल, तूर दाल या फिर जो दाल आप कहते हो वह दाल और तेल)

13. घर में बिन जरूरी उग्र झघड़े हो रहे हो तो उसके निवारण के लिए

14. ब्लेक मेजिक के नाश के लिए

15. बहुत ही तेजी से आर्थिक उन्नति के लिए

16. शत्रु नाश के लिए (किसी भी प्रकार की व्यक्ति आपकी किसी भी प्रकार की प्रगति में बाधा रूप बन रहा हो तो वह व्यक्ति दूर हो जाता है, अगर घर का कोई व्यक्ति हो तो उसके अंदर शत्रुता का नाश हो जाता है।) :

17. संतान की शादी में कोई व्यक्ति बाधा रूप बनती हो उसके लिए

18. संतान की प्रगति के लिए (पढ़ाई और डेवेलपमेंट के लिए) : पढ़ाई या व्यावसायिक क्षेत्र के लिए यह प्रयोग है।

19. शुभ संतान की प्राप्ति के लिए

20. संतान की शादी के लिए एवं शुभ जीवनसाथी के लिए : 10 वर्ष की आयु से अधिक आयु की संतान के लिए यह प्रयोग किया जा सकता है जिससे उनकी शादी सुयोग्य समय पर और सुयोग्य पात्र के साथ होती है और वे किसी भी अयोग्य पात्र के संपर्क नहीं आते है।

21. संतान की आर्थिक उन्नति के लिए

यह सभी करने के दौरान यदि आपको कोई अंतःस्फुरणा हो तो उस तरह से आप प्रयोग कर सकते है।

Additional information

Color

Blue

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “AmruttBatti”

Your email address will not be published.

X